Stories

प्रयाग के सेट्टिराज की कन्या अर्बुद पांचाल के धनी सेठ पुत्र मणियार को व्याही गई। अर्बुद शिक्षिता थी, ज्ञानवान थी, वैसे ही उसके विचार, कार्य, योजनायें भी स्वच्छ सुन्दर और पवित्र होती थीं। ससुर के यहाँ पैर रखते ही उसने घर को एक नई रोशनी में बदल दिया।

मणियार महान् ईश्वर भक्त था, किन्तु उसका वैयक्तिक जीवन, कुविचार और बुरे आचरणों में ग्रस्त होने के कारण, दुःखी और अशान्त...

Awgp Blog

Top 4 in 0.061752796173096